Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:100508 Library:100236 in /home/u248481792/domains/hpexams.in/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1653
पालमपुर सेना भर्ती में आने वाले युवाओं को लाना होगा कोविड-19 प्रमाणपत्र – HPExams.in
+91 8679200111
hasguru@gmail.com

पालमपुर सेना भर्ती में आने वाले युवाओं को लाना होगा कोविड-19 प्रमाणपत्र

सेना भर्ती कार्यालय मण्डी द्वारा हिमाचल प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर में एक से 12 मार्च तक की जाने वाली सेना भर्ती में भाग लेने वाले युवाओं को कोविड प्रमाणपत्र लाना होगा। प्रतिभागियों के लिए मास्क, दस्ताने और हैंड सैनिटाइजर अनिवार्य होगा। सेना भर्ती कार्यालय मंडी के निर्देशक कर्नल एम राजा राजन ने बताया कि जिला मंडी, कुल्लू और लाहौल-स्पीति के युवाओं के लिए भारतीय थल सेना में सैनिक सामान्य ड्यृटी, सैनिक लिपिक, स्टोर कीपर, सैनिक तकनीकी, एविएशन, गोला बारूद परीक्षक तथा सैनिक तकनीकी नर्सिंग सहयोगी पदों की भर्ती 01 से 12 मार्च तक पालमपुर कृषि विवि में होने जा रही है। पहले यह भर्ती 6 से 14 अक्तूबर, 2020 को होनी थी। कोविड-19 के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था। इस भर्ती रैली में वही उम्मीदवार भाग ले सकते हैं, जिन्होंने इन पदों के लिए 20 सितंबर, 2020 तक रजिस्ट्रेशन करवाया था। उन्होंने बताया कि उम्मीदवार अपना एडमिट कार्ड अपनी आईडी से 10 फरवरी, 2021 से डाउनलोड कर सकते हैं। उम्मीदवार अपने साथ एडमिट कार्ड, हिमाचली प्रमाणपत्र, चरित्र प्रमाणपत्र, दसवी व दस जमा दो की अंक तालिका, आधार कार्ड, कोविड फ्री चिकित्सा प्रमाण पत्र पर नो रिस्क प्रमाण पत्र साथ लाएं। उन्होंने बताया कि भर्ती प्रक्रिया पूरी तरह कंप्यूटराइज्ड और पारदर्शी है, इसलिए कोई भी उम्मीदवार भर्ती होने के लिए किसी दलाल के झांसे में न आएं।

पालमपुर एसडीएम ने कहा कि भर्ती के दौरान अकसर देखने में आता है कि बहुत से युवा खुले आसमान के नीचे सोते हैं। ठंड को देखते हुए युवाओं को प्रशासन रात गुजारने के लिए आश्रय उपलब्ध करवाने का प्रयास करेगा। खुले स्थान पर टेंट लगाकर बिस्तर का प्रावधान की व्यवस्था करने के प्रयास किए जा रहे हैं। भर्ती रैली में प्रतिदिन आने वाले युवाओं के ठहरने वाले स्थान से शटल बस सेवा की भी सुविधा दी जाएगी। खाना भी सस्ती दरों पर उपलब्ध करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। प्रशासन की अनुमति पर खाने-पीने के स्टाल लगेंगे। स्वेच्छा से सहयोग देने वाली समाजसेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाएगा। 

Leave a Reply