Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:100508 Library:100236 in /home/u248481792/domains/hpexams.in/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1653
भारतीय इतिहास (पाषाण काल-4) – HPExams.in
+91 8679200111
hasguru@gmail.com

भारतीय इतिहास (पाषाण काल-4)

  • भारतीय प्रागैतिहास को उद्घाटित करने का श्रेय किसे हैं- डॉक्टर प्राइम रोज नामक अंग्रेज को है जिसने 1842 में कर्नाटक के रायचूर जिले में लिंगसुगुर नामक स्थान से प्रागैतिहासिक औजारों की खोज की
  • प्री हिस्टोरिक इंडिया नामक कृति जिसमें प्रागैतिहासिक संस्कृति का भली-भांति विवरण दिया गया है किसकी कृति है- स्टुअर्ट पिगट ने 1950 में इसका प्रकाशन किया
  • होमीनिड्स से संबंधित आद्यतम शिल्प उपकरण किस पत्थर से निर्मित है- क्वार्ट्जाइट पत्थर से निर्मित
  • राजस्थान के किस रेगिस्तानी क्षेत्र से 100000 ईसा पूर्व के एशुली हस्त कुठार मिले हैं- डीडवाना, नागौर नामक पूर्व पुरापाषाण स्थल
  • इतिहास का त्रिकाल प्रणाली (Three age system) पाषाण,कांस्य व लौह युग में विभाजन किस पुरातत्वविद ने किया- सी जे टाॅमसन
  • किसे सोहन घाटी का पितामह कहा जाता है- डी एन वाडिया
  • सर्वप्रथम पाषाण के औजार बनाने का श्रेय किस प्रजाति को है- होमोहेबिलस
  • ओल्डोवान (Oldowan)संस्कृति किस प्रजाति से सम्बधित है- होमोहैबिलस
  • आल्टामीरा की गुफाएँ किस देश में स्थित है- स्पेन
  • निएन्डरथल मानव से जुड़ी संस्कृति मानी जाती है- मोस्तारी
  • फलक व तक्षणी (Blade and burin culture) संस्कृति थी- उच्च पुरा पाषाण काल
  • नर्मदा घाटी के हथनोरा से मिला प्रागैतिहासिक मानव का जीवाश्म किस प्रजाति का है- होमो इरेक्टस
  • सर्वप्रथम पुरा पाषाण शब्द का प्रयोग किसने किया था- जाॅन लुब्बाक
  • ओल्डोवान, एशुली ,मोस्तारी , एबीवेली पाषाण संस्कृतियों का सही विकास क्रम हैं- एबीवेली ,ओल्डोवान,एशुली व मोस्तारी
  • अलंकृत लूनेरा (हार्वेस्टर) किस नवपाषण स्थल से प्राप्त हुआ है- गुफ्फकराल (कश्मीर )
  • प्राचीनकाल चूल्हे के अवशेष किस स्थल से प्राप्त हुए है- बिला सुरगाम (आन्ध्रप्रदेश)
  • नवपाषाण स्थल बैल्लारी (कर्नाटक ) की खोज किसने की थी- फ्रेजर
  • झोपड़ी का प्राचीनतम साक्ष्य किस स्थल से प्राप्त हुए है- पैसरा (बिहार )
  • किस नवपाषाण स्थल से मालिक के साथ पालतू बकरी को दफनाने के साक्ष्य मिले है- मेहरगढ
  • भीमबेटका की गुफाओं की चित्रकारी में सर्वाधिक प्रयोग किन रंगों का हुआ है- लाल व सफेद
  • महासतियो का टीला किस स्थल को कहा जाता है- बागौर (राजस्थान )
  • किस मध्य पाषाण कालीन स्थल से युद्ध का प्रमाण मिलता है मिलता है- सराय नाहर राय
  • कौन सा मध्य पाषाण कालीन स्थल भारत का सबसे बड़ा स्थल है- बागोर भीलवाड़ा(बागोर, तिलवाड़ा और आदमगढ़ से पशुपालन के साक्ष्य मिले है )
  • नवपाषाण शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम किसने किया- जान लुबाक ने 1865 में अपनी पुस्तक प्रीहिस्टोरिक टाइम्स में इसका प्रयोग किया
  • शवों को दफनाने की प्रथा किस काल से प्रारंभ हुई- मध्यपाषाण काल
  • किस मध्यपाषाण स्थल से ऊंट की हड्डियाँ प्राप्त हुई है- कनेवल (गुजरात )
  • भारत मे मध्यपाषाणकालीन उपकरणों की सर्वप्रथम खोज कहा हुई- विन्ध्य क्षेत्र में 1867
  • सर्वाधिक मानव कंकाल कहा से प्राप्त होते है- लेहखहिया ( उत्तरप्रदेश )
  • बनासियन बूल कहा से मिला है- आहड़ (राजस्थान )
  • पटसन का प्राचीनतम साक्ष्य कहा से प्राप्त हुआ है- नेवासा (महाराष्ट्र )
  • शिशु स्कर्वी का उदाहरण कहा से मिलता है- दायमाबाद (महाराष्ट्र )
  • सबसे बड़ी ताम्र निधि कहा से प्राप्त होती है- गुनेरिया (मध्यप्रदेश )
  • माइलस्टोन 101 क्या है- सिंध पाकिस्तान में पत्थर के औजार बनाने का एक कारखाना जो पूर्व पुरापाषाण काल से संबंधित है
  • मोगरा पहाड़ी जहां से पूर्व पुरापाषाण शिल्प उपकरण के साक्ष्य मिले हैं किस स्थान पर स्थित है- जोधपुर
  • मध्य पुरापाषाणिक लूनी उद्योग के साक्ष्य किस स्थान से मिले है- बारिधानी ,मोगरा, होकरा, नागरी
  • पुरापाषाण युग की जलवायु परिस्थितियां कैसी थी- अतिशीत,अतिवृष्टि,जलप्लावन एवं झंझावात जैसी कठिन जलवायु परिस्थितियां थी
  • उत्तर पुरापाषाण युग की भीमबेटका की चित्रकारी के प्रारंभिक रंग और पशु आकृतियां कैसी थी- भीमबेटका की चित्रकारी भारत की प्राचीनतम चित्रकारी है जिसमें प्रारंभिक चित्र हरे एवं गहरे लाल रंग से बने हैं जिसमें भैंस, हाथी,बाघ, गेंडा व सूअर के चित्र विशेष रूप से देखने के लिए मिलते हैं|
  • भीमबेटका में कितने प्रागैतिहासिक शेलाश्रय है- 642 यह सूचना यशोधर मठपाल के द्वारा दी गई है
  • हथनोरा से प्राप्त होमिनिड का जीवाश्म किसका है- 5 दिसंबर 1982 को नर्मदा घाटी में अरुण सोनकिया ने इसकी की खोज की यह जीवाश्म एक 30 वर्षीय महिला का माना गया है
  • भारत के जिस एकमात्र उत्तर पुरापाषाण ठिकाने से हड्डियों के औजार मिले हैं- कुर्नूल गुफाएं (मुच्चटा चिंतामनु गावी गुफ़ा )
  • माइक्रोलिथ कल्चर,पशुपालन,प्रक्षेपास्त्र तकनीकी, शवों को विधिवत दफनाना एवं धार्मिक आचार व्यवहार की शुरुआत किस काल से हुई- मध्य पाषाण काल
  • मध्य पाषाण युग के गुफा चित्रों में किस पशु की आकृति सबसे अधिक देखने को मिलती है- हिरण के चित्र इस काल में बैंगनी,सिंदूरी ,हल्का नारंगी, भूरा एवं रक्ताभ रंगों का प्रयोग किया गया है |
  • मृदभांड निर्माण,अग्नि,कृषि की शुरुआत,स्थिर जीवन व दुग्ध प्राप्ति के लिए पशुपालन आदि की शुरुआत किस काल में हुई- नवपाषाण काल
  • अंजीरा नामक नवपाषाण कालीन स्थल जो श्रृंग प्रस्तर का फलक उद्योग, हड्डी के सुए एवं पांडुरंग के उत्तम मृदभांड का केंद्र रहा किस स्थान पर है- सुराब घाटी,मध्य-बलूचिस्तान
  • वह मध्य पाषाण कालीन स्थल जहां से बांस की आड बनाई जाती थी- बागोर,भीलवाड़ा

Leave a Reply