Warning: mysqli_real_connect(): Headers and client library minor version mismatch. Headers:100508 Library:100236 in /home/u248481792/domains/hpexams.in/public_html/wp-includes/wp-db.php on line 1653
भारतीय इतिहास (पाषाण काल-2) – HPExams.in
+91 8679200111
hasguru@gmail.com

भारतीय इतिहास (पाषाण काल-2)

कालक्रम से लगाएं-
पूर्वपाषाण युग, नवपाषाण युग, कांस्य युग, लौह युग
भारत में पूर्व प्रस्तर युग के अधिकांश औजार बने थे?        स्फटिक पत्थर के
शल्कों से बने औजार किस काल से सम्बन्धित हैं ?                मध्य पाषाण काल से
परिष्कृत औजारों का युग माना जाता है-
उच्च पुरापाषाण युग
फलक व तक्षणी (Blade and burin culture) संस्कृति थी?
उच्च पुरा पाषाण काल
पुरापाषाण युग का प्रमुख औजार क्या था?
हस्तकुठार
हैण्ड ऐक्स (Hand-Axe) क्लीवर (Cliver) आदि उपकरण किस पाषाणकालीन परंपरा के परिचायक हैं?                     निम्न पुरापाषाण काल
लघु-पाषण उपकरण अधोलिखित किस संस्कृति के प्रमुख उद्योग हैं?
मध्य पाषाणकालीन संस्कृति
सर्वाधिक संख्या में हस्तकुठार (हैंडएक्स) और क्लीवर प्राप्त होते हैं-
निम्न पुरापाषाण काल में
मनुष्य ने सर्वप्रथम किस धातु का प्रयोग किया ?                 तांबा                                                                                मानव के द्वारा बनाया जाने वाला प्रथम औजार क्या था?कुल्हाड़ी                                                                          भारत मे मध्यपाषाणकालीन उपकरणों की सर्वप्रथम खोज कहाँ हुई? 
विन्ध्य क्षेत्र में 1867
प्राचीन मानव प्रजाति है –
आस्ट्रेलोपिथिकस
आधुनिक मानव ‘होमोसैपियन’ संबद्ध है-
ब्लेड से
भारत में नवपाषाण काल का निम्नांकित में से कौन-सा स्थान था जहां बड़ी संख्या में हड्डी से बने औजार प्राप्त हुए हैं?
चिरांद
किस नवपाषाणिक स्थल से पशु वाड़े का प्रमाण मिला है?
महगड़ा
ब्लेड-ब्यूरिन प्रकार के उपकरण निम्नलिखित में से किस परंपरा के परिचायक लक्षण हैं?
उच्च पूर्वपाषाण काल
ब्लेड और ब्यूरिन चारित्रिक उपकरण हैं-
उच्च पुरापाषाणिक संस्कृति के
पाषाण काल के तीनों चरणों का साक्ष्य किस स्थान से प्राप्त हुआ?
बेलन घाटी इलाहाबाद से                                        मध्यपाषाणिक प्रसंग में पशुपालन के प्रमाण जहां मिले, वह स्थान है-
आदमगढ़
किस स्थल से हड्डी के उपकरण प्राप्त हुए हैं?
महदहा से
हड्डी से निर्मित आभूषण भारत में मध्य पाषाण काल के संदर्भ में प्राप्त-
महदहा से
एक ही कला से तीन मानव कंकाल निकले हैं-
दमदमा से
हड्डी की मातृदेवी मूर्ति प्राप्त हुई है-
विंध्य घाटी के उच्च पूर्वपाषाण काल से
बूचड़खाना क्षेत्र का साक्ष्य प्राप्त हुआ है-
महदहा से
आभूषणों से युक्त मध्य पाषाणिक मानव समाधियां प्राप्त हुई हैं :    महदहा से                                                                      मध्य पाषाणिक स्थल चोपनीमाण्डो स्थित है-
इलाहाबाद के मेजा तहसील में बूढ़ी बेलन के किनारे
प्रागैतिहासिक अन्न उत्पादक स्थल मेहरगढ़ स्थित है –        पश्चिमी बलूचिस्तान में
मध्यपाषाण काल के लोगों की मुख्य विशेषता क्या थी?
लघु पाषाणोपकरणों का प्रयोग
पूर्वपाषाण युग के लोगों का प्रमुख उद्यम क्या था?
शिकार
भारत में मानव का सर्वप्रथम साक्ष्य कहां मिलता है?            नर्मदा घाटी
उत्खनित प्रमाणों के अनुसार पशुपालन का प्रारंभ हुआ था-
मध्य पाषाण काल में   
उत्खनित प्रमाणों के अनुसार पशुपालन का प्रारंभ हुआ था-
मध्यपाषाण एवं नवपाषाण काल में
खाद्य उत्पादनपरक अर्थव्यवस्था संबंधित है :
नवपाषाण काल से
मानव का प्रथम पालतू पशु –
कुत्ता
मानव ने कुत्ते को किस काल में पालतू बनाया?
मध्य पाषाण काल में
पाषाणयुगीन मानव को आग की जानकारी हुई थी-
निम्न पुरापाषाण काल                                                      मानव ने आग की खोज किस काल में की?
पुरापाषाण काल
मानव ने आग का प्रयोग किस काल से शुरू की?
नवपाषाण काल                                                             मनुष्य में स्थाई निवास करने की प्रवृत्ति कब हुई –          नवपाषाण काल में
मनुष्य ने कृषि का ज्ञान प्राप्त किया :
नवपाषाण काल में
पहिए का आविष्कार कब हुआ –
नव पाषाण काल में
खाद्यान्नों की कृषि सर्वप्रथम प्रारंभ हुई थी :
नवपाषाण काल में
मिट्टी के बर्तन बनाना किस काल से संबंधित है?
नवपाषाण काल
भारतीय उपमहाद्वीप में कृषि के प्राचीनतम साक्ष्य प्राप्त हुए हैं?
लुहरादेव से (नए अध्ययन के अनुसार) पुराना मेहरगढ़
चावल का प्राचीनतम प्रमाण पाया गया है-
लुहरादेव (नए अध्ययन के अनुसार)
पुराना कोल्डिहवा (उत्तर प्रदेश) में
गंगा घाटी में धान उत्पादन के प्राचीनतम प्रमाण किस स्थल से प्राप्त हुए हैं?
लहुरादेव
मानव द्वारा सर्वप्रथम कौन सी फसल उगाई गई –
जौ (8000 B C के प्रारम्भ में)
उस स्थल का नाम बताइए जहां से प्राचीनतम स्थायी जीवन के प्रमाण मिले हैं?
मेहरगढ़
वृहत्पाषाण स्मारकों की पहचान की गई है?
मृतक को दफनाने के स्थान के रूप में
राख का टीला निम्नलिखित किस नवपाषाणिक स्थल से संबंधित है?
संगनकल्लू
महासतियो का टीला किस स्थल को कहा जाता है?
बागौर (राजस्थान)
“भीमबेटका” किसके लिए प्रसिद्ध है?
गुफाओं के शैल चित्र
भारत मे किस शिलाश्रय से सर्वाधिक चित्र प्राप्त हुए हैं – भीमबेटका से
भीमबेटका की गुफाओं की चित्रकारी में सर्वाधिक प्रयोग किन रंगों का हुआ है?
लाल व सफेद
निम्न में से कौन-सा स्थल प्रागैतिहासिक चित्रकला के लिए प्रसिद्ध है?
भीमबेटका
भीमबेटका की गुफाएं कहां स्थित हैं?
अब्दुल्लागंज-रायसेन
गैरिक मृद्भांड पात्र (ओ.सी.पी.) का नामकरण हुआ था?
हस्तिनापुर में
शवों को दफनाने की प्रथा किस काल से प्रारंभ हुई?
मध्यपाषाण काल
शवाधान में मानव के अवशेषों के साथ कुत्ते, बकरे जैसे पालतू पशुओं को दफनाने के साक्ष्य मिले हैं:
बुर्जहोम में
ताम्राश्म काल में महाराष्ट्र के लोग मृतकों को घर के फर्श के नीचे किस तरह रखकर दफनाते थे?
उत्तर से दक्षिण की ओर
किस नवपाषाण स्थल से मालिक के साथ पालतू बकरी को दफनाने के साक्ष्य मिले है?
मेहरगढ
किस स्थल से मानव कंकाल के साथ कुत्ते की कंकाल भी शवाधान से प्राप्त हुआ है?
बुर्जहोम
किस स्थान पर मानव के साथ कुत्ते को दफनाए जाने का साक्ष्य मिला है?
बुर्जहोम
गर्त आवास के साक्ष्य प्राप्त हुए हैं?
बुर्जहोम से
विंध्य क्षेत्र के किस शिलाश्रय से सर्वाधिक मानव कंकाल मिले हैं?
लेखहिया
किस मध्यपाषाण स्थल से ऊंट की हड्डियाँ प्राप्त हुई है
कनेवल (गुजरात)
सर्वप्रथम किस विद्वान ने भारत की प्राचीनतम नगरीय सभ्यता के लिए सिंधु सभ्यता शब्द का प्रयोग किया था?
जान मार्शल

Leave a Reply